महासमुंद में सड़क पार करते नजर आया बाग कई मवेशियों को बना चुका है शिकार जिससे ग्रामीणों में है दहशत का माहौल

महासमुंद में सड़क पार करते नजर आया बाघ.. कई मवेशियों को बना चुका है शिकार, जिससे ग्रामीणों में है दहशत का माहौल

 

महासमुंद 31 मार्च 2024/

दिनांक 07 /03/2024 को शिक्षक कांशीराम पटेल एवं सचिव  ओमप्रकाश पटेल ग्राम पंचायतबंदोरा कार से जा रहे थे, तब छपोराडीह से सिरपुर मार्ग पर शाम 05-45 बजे ग्राम बांसकुण्डा से सिरपुर मार्ग में 1नग बाघ को रोड़ पार करते हुए देखा गया। शिक्षक पटेल द्वारा मोबाईल से विडियो बनाया गया है, शिक्षक द्वाराउक्त जानकारी वनमण्डलाधिकारी महासमून्द को दी गई। सूचना प्राप्त होते ही जिला बलौदाबाजार-भाटापारा के वनअधिकारी एवं कर्मचारियों द्वारा उक्त क्षेत्र की रात्रि गश्त की गई। दुसरे दिन 08/03/ 2024 को रायकेरा एवं-सुकुलबाय के ग्रामीणों द्वारा पुनः बाघ देखने की सूचना दी गई। जिस पर त्वरित कार्यवाही करते हुए वन मण्डलाधिकारी महासमुन्द की अध्यक्षता एवं वन मण्डलाधिकारी बलौदाबाजार तथा वन विकास निगम के बारनवापारा परियोजना मण्डल की टीम गठित कर कार्यवाही की गई, जिससे अमलोर, सुकुलबाय में मवेशियों की मृत्यू होना पाया गया, मवेशियों को मारने के तरीके हिंसक वन्यप्राणी तेन्दूआ जैसे थे। दिनांक 12/ 03/2024 को जिले के अंतर्गतट्रेकिंग के दौरान बाघ के पंजे का निशान पगडंडी में प्राप्त हुऐ। दिनांक 14 / 03/ 2024 को बलौदाबाजार वनमण्डल के परिक्षेत्र बल्दाकछार के कर्मचारी द्वारा बाघ को प्रत्यक्ष रूप से देखा गया एवं पुष्टि की गई। तत्पश्चात् विभाग के द्वारा, NTCA द्वारा जारी SOP/प्रोटोकॉल का पालन कर नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है।

जिला बलौदाबाजार-भाटापारा एवं महसमुन्द जिला में वन विकास निगम के परिक्षेत्र रवान, बार एवंसिरपुर पिक्षेत्र का आंशिक भाग है। वन विभाग द्वारा विभागीय अमला / डॉग स्क्वायड / NG0 संस्था के माध्यम सेलगातार ग्रामीणों को जंगल ना जाने हेतु एवं बाघ के विचरण के संबंध में सचेत किया जा रहा है। साथ ही साथ

विभागीय अमले के द्वारा लगातार रात्रि गश्ती कर क्षेत्र को नियंत्रण करने का प्रयास किया जा रहा है। सुरक्षा कीदृष्टि से वन विकास निगम क्षेत्र के अंतर्गत वनक्षेत्रों में प्रवेश रोकने के लिये अस्थाई बेरियर का निर्माण किया गयाहै। परिस्थतियों को ध्यान में रखते हुए बाध की सुरक्षा हेतु 03 ट्रेकिंग टीम वनमण्डल बलौदाबाजार, वन मण्डल महासमुन्द, वन विकास निगम की गठित कर नोवा नेचर वेलफेयर सोसाइटी रायपुर के  एम. सूरज तथा वसुंधरासोसाइटी फार कंजर्वेशन आफ नेचर के  गौरव निहलानी के सहयोग से लगातार ट्रेकिंग किया जा रहा है, साथही जन-जागरुकता हेतु बलौदाबाजार वनमण्डल द्वारा o7 परिक्षेत्रों की अलग-अलग टीम बना कर दिवसवार रात्रिगश्त करते हुये उपरोक्त ग्रामों में ग्राम प्रमुखों एवं जनप्रतिनिधियों को सूचना देकर ग्रामीणों को अनावश्क वनक्षेत्रमें ना जाने की लगातार समझाईस दिया जा रहा है।

 

Leave a Comment

[democracy id="1"]

मुख्यमंत्री विष्णु देव की संवेदनशील पहल छत्तीसगढ़ की पबिया, पविया, पवीया जाति को अनुसूचित जनजातियों की सूची में पाव जाति के साथ शामिल करने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा

error: Content is protected !!