शिवरीनारायण बैराज निर्माण के लिए बनाए मकानो पर हो रहा अवैध कब्जा, भू माफियाओ की है मकान पर नजर

शिवरीनारायण बैराज निर्माण के लिए बनाए मकानो पर हो रहा अवैध कब्जा, भू माफियाओ की है मकान पर नजर

 

 

शिवरीनारायण।  महानदी में बैराज का निर्माण हुए कई महीने बीत गए लेकिन बैराज मोड़ के पास बैराज निर्माण करने के लिए बनाए गए मकान को सुरक्षित नही रखा गया हैं, मकान पर अब भू माफियाओं की नजर पड़ गई है और अब उस मकान पर महिलाओं को रहने के लिए वहा उनके लिए व्यवस्था कर दी गई है और इस ओर अधिकारियों का ध्यान नही हैं अगर समय रहते मकान को खाली नही कराया गया तो यह जमीन भी भू माफियाओं की हो जायेगी। भू माफिया कहते है जमीन का पट्टे है हमारे पास आपको बता दे भू माफिया नगर में काफ़ी सक्रिय है नगर में अधिकारियों को मोटी रकम देकर शिवरीनारायण नगर के कई खाली पड़े शासकीय जमीनों के पट्टे बनवा कर रख लिए है और उसे धीरे धीरे करके कब्जा करके उसे प्लांट काट कर बेचने के फिराक में लगे हुए हैं।

जांच होनी चाहिए पट्टो की

नगर के वार्ड न.12 में बैराज के पास शासकीय भूमि पर अनेकों पट्टे बनाए गए है लेकिन उन पट्टो की जांच काफी लंबे समय से नही हो पाई है। जिसका फायदा भू माफिया को हो रहा हैं। नगर में कोई भी शासकीय भवन बनाने के लिए जगह नही बची है, क्योंकि भू माफियाओं ने अब शासकीय जगहों पर भी पट्टा बनवा कर रख लिया हैं। पट्टो की अगर सही जांच कराई जाती है तो निश्चित ही बहुत से पट्टे निरस्त होंगे।

अवैध प्लाटिंग करने वाले भू-माफिया एवं जमीन दलालों के खिलाफ प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा है। इन भू-माफिया एवं जमीन दलालों के रसूख के सामने राजस्व विभाग कुछ नहीं कर पा रहा है। कालोनाइजर लाइसेंस व भूमि विकास अनुज्ञा प्राप्त किए बगैर नगर में कई अवैध प्लाटिंग करने वाले भू-माफिया एवं जमीन दलालों पर राजस्व अधिकारी कर्मचारी कार्रवाई करने से इसलिए बच रहे हैं क्योंकि कहीं न कहीं उनकी कलम इसमें फंसी दिखाई पड़ता है। नगर पंचायत शिवरीनारायण के चारों दिशाओं में भू-माफिया एवं जमीन दलालों ने घास एवं शासकीय भूमि पर पट्टा बनवा कर मकान बनाने के बाद उसे उचित दामों में बेच कर मुनाफा कमा रहे हैं।

Leave a Comment

[democracy id="1"]

मुख्यमंत्री विष्णु देव की संवेदनशील पहल छत्तीसगढ़ की पबिया, पविया, पवीया जाति को अनुसूचित जनजातियों की सूची में पाव जाति के साथ शामिल करने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा

error: Content is protected !!